शिक्षण-सत्र 1 : ‘‘ हाथी ’’ का विवरण देना ।

यह पहला शिक्षण-सत्र है, हम परीक्षण करेंगे कि चेलों के लिये सम्पूर्ण बाईबल   के लिये ‘‘ बडा पर्दा ’’ दृष्टिकोण क्यों आवश्यक है और जो अगुवाई कें लिये बुलाये गये हैं उनकें के लिये यह क्यों महत्वपूर्ण है। इस यात्रा के माघ्यम से, आप अांग्रेज़ी बाईबल  की संरचना से अवगत होगे और किस प्रकार संरचना को सीखनें के माध्यम से, आप अपने सम्पूर्ण जीवन में बाईबल  की विषय वस्तु, उसके प्रयोजन और उसके अमल को बनाये रखने के लिये आवश्यक प्रवीणता को विकसित करने पाते हैं। और आप यह भी सीखना प्रारम्भ कर देंगें कि किस प्रकार बड़ी तस्वीर को, बाईबल  मैनेजमेन्ट कौशल को, अपनी शिक्षा और परामर्श प्रभाव को विकसित करने के लिये प्रयोग में लाये। यह तीव्र 30 मिनट होंगें। अपने बाईबल  के दौडने जूते पहन ले और दौड़ने के लिये तैयार हो जायें।

Sharing Links

Speaker