परमेश्वर के साथ बातचीत करना

एक तंदरुस्त बातचीत में न सिर्फ सुनना अनिवार्य है वरन बोलना भी अनिवार्य है. प्राथना का अर्थ है परमेश्वर से किसी भी बात के लिए और हर बात के लिए बात करना. वह हमारा नया पिता है. और वह आप से सुनना चाहता है. आप कैसे प्राथना कर सकते है? आप किस बात के विषय में प्राथना कर सकते है? क्या होगा यदि मुझे उसको सुनने में परेशानी है?

04. Listen (Hindi)

Speaker