जब आप ठोकर खाते हैं

जब आप परमेश्वर के साथ अपनी यात्रा में ठोकर खाते हैं. यदपि परमेश्वर की सामर्थ आप में काम कर रही है, वह आपकी यीशु जैसा बनने में और भी ज्यादा सहायता कर रही है, आप ठोकर खायेंगे. यह आपके नये विशवास का आनंद दूर करने के विषय में नहीं नहीं है; यह आपको उस आनंद के लिए तैयार करने के विषय में है जो कि आत्मिक बढ़ोतरी का है और यह आपके आगे है. परमेश्वर यह जानता है और वह चकित नहीं होता है और इससे उसके समर्पण पर जो कि आपके प्रति है कोई परभाव नहीं पड़ता है. पाप क्या है? क्या परीक्षा पाप है? आप कैसे बता सकते है कि आपने पाप किया है और आप इसके लिए दुखी है? क्या वह क्षमा करता है? क्या आप साफ़ हो सकते है?

02 Change (Hindi)

Speaker