24. हबक्कूक और विश्वास

हबक्कूक के अन्दर यह सवाल है कि दुष्ट लोग क्यों फलफूल रहे हैं जबकि धर्मी लोग बड़ी दुर्दशा में पड़े हैं। उसके प्रश्न से ऐसा लगता है कि परमेश्वर न्यायी है कि नहीं, क्योंकि हबक्कूक विश्वास से प्रश्न पूछता है परमेश्वर उसके प्रश्न का जवाब यह कह कर देता है कि इन्तजार करो। आखिर में दुष्टों को दण्ड मिलता है और धर्मियों को ईनाम। बीच में यह बात प्रगट होती है कि धर्मी जन धर्मी परमेश्वर पर विश्वास से जीवित रहेगा।

Speaker