51. मसीही प्रेम

यूहन्ना की पहली पत्री मुख्य रूप से प्रेम के बारे में है। परमेश्वर ने हमसे प्रेम किया है तो हमें दूसरों से भी प्रेम  करना चाहिये। प्रेम केवल सामान्यतयः भावना ही नहीं परन्तु इसमें कार्य शामिल होता है। परमेश्वर ने हमसे प्रेम किया इसलिये उसने अपने पुत्र को भेजा। प्रेम  में दूसरों की भलाई के लिये अपने आपको दे देना है।

Speaker