8. दस आज्ञाएँ

 निर्गमन 20 अध्याय में जो दस आज्ञाएँ दी गयी हैं वे केवल नियम नहीं है कि हम उनका पालन करें, परन्तु ये एक संरचना और ढांचा प्रदान करती हैं कि हम परमेश्वर से कैसे प्रेम करें (शेमा) और यह इस बात में दिखाई पड़ना चाहिये कि हम परमेश्वर और दूसरों के साथ किस प्रकार का व्यवहार करते हैं।

Speaker